शुक्रवार, 25 जून 2010

बोधि के पहले कवि

बोधि प्रकाशन से प्रकाशित होने वाले पहले कवि लछमन दास गिद्रा पर हमने यह लघु फिल्म बनाई है। देखें और अपनी राय दें।

8 टिप्‍पणियां:

  1. रचनाकार को सम्मान देने का जो सलीका 'बोधि' के पास है, वैसा कहीं नहीं। भाई माया को साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस प्रयास हेतु आप साधुवाद के पात्र हैं.
    बधाइयाँ और शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर ढंग से एक कवि को आपने उसके पाठकों और दर्शकों के सामने रखा है । मेरी शुभकामनाएं कि यह प्रयास निरंतर बना रहे और अन्य रचनाकार भी बोधि द्वारा इस भांति सुबोध बने ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    प्रयोग सार्थक है इसें अन्‍य रचनाकारों पर भी आजमाया जा सकता है।

    शुभकामनाएं।


    (हैंड माइक की जगह अगर टैग माइक हो तो और भी बेहतर)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बोधि प्रकाशन ने अपने रचनाकार को सम्मान देने का एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत किया है, ये काम और प्रकाशक एवं संस्थाएं भी कर सकती हैं किन्तु भाई मायामृग ने अनुकरणीय पहल की है.उम्मीद करनी चाहिए कि मायामृग से अन्य लोग अवश्य प्रेरणा लेंगे; ये डोक्युमेनतेशन का काम कवि के रहते कर लिए जाने की जरूरत है. अब तो प्रौद्योगिकी भी काफी विकसित ही चुकी है, स्तुत्य प्रयास के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कवि लछमन दास गिद्रा जी पर बनाई लघु फिल्म
    आज देख पाया हूं , अच्छी लगी । … बधाई !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    शस्वरं

    उत्तर देंहटाएं